नीरा आर्य भारतीय राष्ट्रीय सेना (आईएनए) झांसी की रानी रेजिमेंट में सैनिक थी-

नीरा आर्य भारतीय राष्ट्रीय सेना (आईएनए) की दिग्गज थीं

नीरा आर्य भारतीय राष्ट्रीय सेना (आईएनए) की दिग्गज थींनीरा आर्य भारतीय राष्ट्रीय सेना (आईएनए) की दिग्गज थीं। ये भारतीय सेना की झांसी की रानी रेजिमेंट में सैनिक थी.!

नीरा आर्य का जन्म 5 मार्च 1902 को खेकड़ा नगर, उत्तर प्रदेश में हुआ था। उसके पिता एक प्रभावशाली व्यापारी थे। उसने अपनी प्रारंभिक शिक्षा कलकत्ता में पूरी की।

नीरा आर्या बागपत जिले के खेकड़ा की रहने वाली थीं। इलाके के मशहूर साहित्यकार और मनीषी पुरस्कार से सम्मानित तेजपाल सिंह धामा बताते हैं कि इतिहास की किताबों में आज भी नीरा आर्या अमर हैं। नीरा आर्य का जन्म 5 मार्च 1902 को खेकड़ा नगर में हुआ था।

इनके पिता सेठ छज्जूमल प्रसिद्ध व्यापारी थे। उन्होंने अपने बच्चों नीरा और बसंत की पढ़ाई कोलकाता (तब कलकत्ता) में कराई थी। पढ़ाई के समय से ही नीरा आर्य आजाद हिंद फौज में रानी झांसी रेजीमेंट की सिपाही थीं।

सेठ छज्जूमल ने अपनी बेटी नीरा आर्या की शादी ब्रिटिश सेना में अफसर श्रीकांत जय रंजन दास से की थी। वह भारत में सीआईडी इंस्पेक्टर के पद पर तैनात थे और अंग्रेजों के करीबी थे।

सीआईडी इंस्पेक्टर श्रीकांत को भनक लगी

जब सीआईडी इंस्पेक्टर श्रीकांत को भनक लगी कि नीरा आर्या सुभाष चंद्र बोस की सेना में शामिल हैं तो उन्होंने नीरा आर्या की रेकी शुरू कर दी। इस तरह जल्द ही श्रीकांत ने सुभाष चंद्र बोस के ठिकाने का पता लगा लिया।

नीरा आर्य की शादी श्रीकांत जयरंजन दास से हुई थी, जो ब्रिटिश जांच एजेंसी सीआईडी की सक्रिय सेवा करते थे। साकार नीरा आर्य भारतीय राष्ट्रीय सेना की रानी झांसी रेजिमेंट का हिस्सा बन गई थी, श्रीकांत चाहते थे कि नीरा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की हत्या कर दे।

जब नीरा आर्य ने मना कर दिया तो श्रीकांत जयरंजन दास चाहते थे कि वह नेताजी के ठिकाने का खुलासा करें, ताकि खुद नेताजी की हत्या कर सके। हत्या की नाकाम कोशिश के दौरान श्रीकांत ने नेताजी की तरफ गोली चला दी।

नेताजी गोलीबारी में बच गए लेकिन उनके ड्राइवर को गोली मार दी गई। इतना सुनते ही नीरा ने अपने पति श्रीकांत की चाकू मारकर हत्या कर दी। नीरा आर्य का निधन रविवार 26 जुलाई 1998 को हैदराबाद में हुआ था।

संगीन घोंपकर कर दी पति की हत्या

इसी दौरान एक दिन नीरा आर्या जब सुभाष चंद्र बोस से मिलने पहुंचीं तो श्रीकांत ने नेताजी सुभाष चन्द्र बोस पर फायरिंग कर दी। गोली बोस के ड्राइवर को लगी। हालात भांपते ही मौके पर मौजूद नीरा आर्या ने फौरन संगीन निकाली।

इसके बाद अपने पति के पेट में घोंपकर उनकी हत्या कर दी। नीरा आर्या का यह रूप देखकर सुभाष चंद्र बोस भी दंग रह गए।

नीरा आर्या को मिली थी काले पानी की सजा

अंगेजी हुकूमत को जब मामले की जानकारी हुई तो नीरा आर्या को अंग्रेजी अफसर की हत्या के आरोप में काले पानी की सजा सुनाई गई। उन्हें कलकत्ता जेल में कैद किया गया। इस दौरान उन्हें घोर यातनाएं दी गईं।

जेल में उन्हें प्रलोभन भी मिला कि अगर नेताजी के बारे में सुराग देंगी तो उन्हें छोड़ दिया जाएगा। एक बार तो उन्होंने यातनाओं से आजिज आकर जेल के पहरेदार पर थूक दिया था। जेलर ने कई बार असहनीय यातनाएं दीं लेकिन नीरा आर्या को डिगा नहीं सका।

 

You may also like...